Skip to main content

Posts

Showing posts from November, 2019
मेरे हुजरे में कभी आओ
अदब का चाँद रखता हूँ

होशलों की दीवारें
और छान रखता हूँ

सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद
टूटी खटिया है मगर सम्मान रखता हूँ

हक किसी मजलूम का खाता नहीं मैं
चटनी रोटी में मगर ईमान रखता हूँ

न मिले पकवान शायद महलों से....

Sawan