Friday, August 23, 2019

Meri Lekhni kalam





लेखनी कलम

प्रचंड तेज सूरज सा इसमें ।
कलम उगलती है शोले ।।
दिल की पीर शब्द बन जाती ।
फिर जो काव्य रंग घोले ।।

फूलों सी नाजुक भी है ये ।
तेज कलम शमसीरों से ।।
अंगारे भी लिखती है ये ।
अनमोल शब्द भी हीरों से ।।

उठे क्रान्ति जब चलती है ।
इंकलाब का नाद उठे ।।
जब जब चले, जले दीपक सी ।
अन्धकार का नाम मिठे ।।

कड़वी मीठी दोनों जाने ।
नहीं डरे सच कहने से ।।
कही शस्त्र बनती तनती है ।
कही ये सजती गहनों से ।।

दर्द लिखे ये जख्मी दिल का ।
आँखों की लिखती भाषा ।।
कभी लिखे तन्हाई मन की ।
कभी लिखे ये अभिलाषा ।।

कभी प्रेम रस कभी वीर रस ।
विरह लिखे ये विरहन की।।
देश प्रेम जब जब लिखती है।
छाती कांपे दुश्मन की ।।

लू लिखे ये जेष्ठ मॉस की ।
लिखे फुवारे सावन की ।।
ठिठुरन लिखती है सर्दी की।
लिखे बहारें योवन की ।।

गीत फ़ाग के प्यारे लिखती।
और बौछारें रंगों की ।।
लिखे वीरता रणवीरों की ।
गाथा लिखती जंगों की ।।

फूल कभी खुशबू लिखती है ।
कभी खार तलवार लिखे ।।
जीत प्रशंसा लिखे अनोखी।
कभी कसकती हार लिखे।।

मेरी लेखनी दीवानी है ।
कुदरत का शृंगार लिखे ।।
तितली भंवरा कोयल दादुर।
मिलन की रुत और प्यार लिखे।।

सावन चौहन कारौली -एक नादान कलमकार...✍

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...