Monday, August 5, 2019

Ichchha shakti

   


     इच्छा शक्ति


सेना में दम था पहले भी
मगर कहाँ पर कमी रही

इच्छा शक्ति कुछ लोगों की
जाने कहाँ पर जमी रही

सत्ता के लोभी नेता थे
फकत मलाई खाते थे

सेना,सैनिक के साहस को
हर बारी ही गिराते थे

100 रुपये अनुदान मे से भी
90 खुद खा जाते थे

आज कोई आया दमदार तो
पड़ गए खाब खटाई में

सीधे सीधे रेड पड़ी थी
काली जमा कमाई में

No comments:

Meri Lekhni kalam

लेखनी कलम प्रचंड तेज सूरज सा इसमें । कलम उगलती है शोले ।। दिल की पीर शब्द बन जाती । फिर जो काव्य रंग घोले ।। फूल...