Friday, July 12, 2019

Tumko Bhulana Hamse n Hoga


तुमको भुलाना हमसे न होगा

तुमको भुलाना हमसे न होगा
दिल समझाना हमसे न होगा 

देश पराये, जाने वालेsssssss 
खाब में आना हमसे न होगा 

तू रहना फूलों की तरहा 
अब मुश्काना हम से न होगा 

तुमको मुबारक रंगी नज़ारे 
बाग़ में  जाना हमसे न होगा 

बस इस दिल मे तेरा बसेरा
गैर का आना हमसे न होगा

तू मौसम सी लाख बदलना
वादा भुलाना हमसे न होगा

पूरे करना शौक तु सारे
खाब सजाना हम से न होगा

तु कहना जो मर्जी "सावन"
बेवफा बताना हमसे न होगा

"सावन चौहान कारोली"

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...