Saturday, July 20, 2019

Pm Modi ji


दिल जान से फिदा है

PM Narendra Modi Ji

221 2122 221 2122


रब का मुरीद जैसे भगवान से फिदा है
वो भी वतन पे ऐसे दिल जान से फिदा है

चश्मा ही ये गलत है दिखती नहीं तरक्की
हर शक्स वरना उसपे ईमान से फिदा है

पिछड़े से मुल्क में थी होती हमारी गिनती
ए हिंद तेरी बदली पहचान से फिदा है

होने लगा यकीं सा बदलेगी अब तो सूरत
हर लब पे उसकी चर्चा गुणगान से फिदा है

ये कौन आ गया है मौसम बहारा लेके
बढ़ते हुए वतन के सम्मान से फिदा है

चोरों में खलबली है होगी सजा सभी को

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...