Thursday, July 11, 2019

Dahej daitya

दहेज़ दैत्य


कब तक प्यारी बेटियां यूँ ही चढती रहेंगी भेंट
क्यों इस दहेज़ दैत्य का, भरता नही है पेट


ये कैसा लोभ -लालच है ? ये कैसी भूख है ?
हर दिन चिता पे लाड़ली जाती है किसी की लेट


ये आदमखोर रह रहे हैं तेरे मेरे ही दरमियान
यहॉँ मासूमों का कर रहे है ये दरिंदे आखेट


व्यापार हो रहे है, यहाँ शादियों के नाम पे
बेटे की परवरिश का खुल के मांगते हैं रेट


वो गिर पड़ा जमीन पे, लाड़ो की लाश देख कर
जिसकी करी थी शादी उसने खेत क्यारी बेक


अब जाग जा ऐ आदमी रश्मों को ऐसी तोड़ दे
ऐसी रिवाजों को सावन सदा के लिए दो मेट


सदा के लिए दो मेट
सदा के लिए दो मेट
सदा के लिए दो मेट…



“सावन चौहान करौली” एक नादान कलमकार
भिवाड़ी अलवर राजस्थान
मो.9636931534

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...