Tuesday, July 16, 2019

chashka bura sharab ka





चश्का बुरो शराब को - दोहा संकलन

मानव से दानव करै, ले ले सर की आब ।
गधा करे दोऊ घुट में, जातै नाम शराब ।।


या पानी के फेर में, बहुरे हुए बर्बाद ।
ओंधे मुँह गिरते देखे, बड़े बड़े उस्ताद ।।


जान सहारो पिवत है , कबहुं सहारै नाय ।
रेत खेत कर देत है, जो या रस्ता जाय।।


पैसो जावै इज्जत जावै, घर को हो सत्यानाश ।
या मतवारे पानी को, लगो बुरो होय चाश ।।


या लत को अन्धो मनुज, घर के बेकै भांड ।
शर्म हया सब बेच दे, करै नये नित काण्ड ।।


पीकै घूँट शराब की, घर में करै क्लेश ।
सज्जन से दुर्जन बनै, संत बनै लंकेश ।।


चश्का बुरो शराब को, राजन खोये राज ।
ऐसो मद या मदिरा को, बने बिगाड़े काज ।।


बोल बोल रहयो बड़े बहुत, आज बेवरा एक ।
बनो फिरै है चौधरी, खेत खूड दिए बेक ।।


समझायो समझो नहीं, ना मानो वो बात ।
पैर पकर बेटा खिंचे, बीवी दे रही लात ।।
कुत्ता चाटे मुँह माथो, पीकै देवै जात ।
सावन ऐसे सूरमा, करते हैं बड़ी बात ।।


*************************************


सावन चौहान कारौली- एक कलमकार
भिवाड़ी अलवर राजस्थान
मो.9636931534

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...