Monday, July 8, 2019

Aaj unki gali se






गजल
आज उनकी गली से गुजर सा गया ।
धड़कने रुक गई सब ठहर सा गया ।।

आ गया याद फिर दौर पिछला वही ।
जख्म फिर वो पुराना उभर सा गया ।।
भूल बैठा, गया था मैं किस काम से ।
ध्यान जाके वहां पे बिखर सा गया ।।
उसने शायद भुला ही दिया था मुझे ।
आँख मिलते ही चेहरा उतर सा गया ।।
 
बदली बदली लगी आज उसकी 'नजर'।
अपने वादे से शायद मुकर सा गया ।।

मैं चाह के भी "सावन" भुला ना सका ।
वो मेरी 'रूह' तक था उतर सा गया ।।

शायर-सावन चौहान कारौली
भिवाड़ी अलवर राजस्थान


https://www.writersindia.in/2019/07/blog-post_18.html?m=1

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...