Tuesday, July 2, 2019

मोहब्बत तो कर ले

122 122 122 122
**************************************************
अदब से दिल में उफनता हुआ दरिया सम्भाल रखा है
कोई उनसे न कुछ कहदे बखूबी भी ~~ख्याल रखा है
हजारो जख्मों को तोहफा समझ ~~~~ कबूल किया
हजारों अश्कों को शेरो में~~~~~~~~~ ढाल रखा है


गजल

हमे खाब की जूँ,भुला तो न दोगे
मुहब्बत तो करलें दगा तो न दोगे

अभी तो जुनूं है जवानी का’ सर पे
सरे राह दामन छुड़ा तो न लोगे

दबी आग को फिर से ऐसे न छेड़ो
अगर ये जली फिर बुझा तो न दोगे

मिरा दिल ये नाजुक है शीशे के जैसा
तुम्हे सौंप दूं तुम गिरा तो न दोगे

नहीं जानता मैं पहेली बुझाना
मिरे सीधेपन की सजा तो न दोगे

बड़ी ही कठिन है ये उल्फ़त की राहें
कहीं बीच रस्ते ज़फ़ा तो न दोगे

मुहब्बत की बाज़ी सदा ही मैं हारा
कहीं घाव दिल पे नया तो न दोगे

मैं मरके भी सावन भुला ना सकूँगा
कहीं तुम निगाहें चुरा तो न लोगे
**************************************************
सावन चौहान कारोली -एक गजलकार
भिवाड़ी अलवर राजस्थान

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...