Wednesday, July 10, 2019

Satya path

       
       "सत्य पथ"

ऐ मनुज उलझा कहाँ है,
ध्येय से भटका है क्यों ।
            छल है ये सगरा दिखावा,
             दुनियाँ के बाज़ार में ।।
बन्द अँधा अनुसरण कर,
आधुनिक इस सोच का ।
           सीख की कमी नहीं,
           तेरे पैतृक संस्कार में ।।        
आधुनिकता ठीक है पर,
संस्कृति भूल मत ।
          आदर प्रेम दया क्षमा,
           रखना तू व्यवहार में ।
शत्रु नहीं माँ बाप है तेरे,
ना समझ इनको ग़लत ।
              सफलता की कुञ्जी है,
               माँ बाप की फटकार में ।।
जर कमा शौहरत भी पा,
पर ! मत मशीन बन जाना ।
              अच्छा नहीं होता गर पीपल,
               उग आए दीवार में ।।
जिन्दगी के पौधे में,
ईमान का भी पानी दे ।
        रखता है सबका हिसाब,
         भेजा जिसने संसार में ।।
लालच ये दौलत का कितना,
एक दिन उलझाएगा ।
               जोड़ जर जीने के लायक,
               मत भटक बेकार में ।।
दीवरों से सीखले तू,
बोझ बांटने का गुण ।
              सहानुभूति भी तू रखना,
               हृदय के कोठार में ।।
सत्य पथ पे जब चलेगा,
अड़चने भी आयेंगी ।
              लेकिन मंजिल भी मिलेगी,
               मुश्किलों के पार में ।।
धर्म पथ प्रतिकूल तो है ,
लेकिन सत्य पथ यही ।
               तारेगा ये पार सावन,
                नौका बन मझदार में ।।

    https://writersindia.in

    
सावन चौहान कारौली-
भिवाड़ी अलवर राजस्थान
   मो.9636931534



        

       

2 comments:

Unknown said...

वाहहहह ! अतिसुंदर सृजन

geet gajal said...

sarahniy pratikriya ke lie antas se abhar aadraniy

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...