Wednesday, July 24, 2019

Band karke old currency "Dimonitization"

           
Band karke old currency
     Dimonitization

बंद करके ओल्ड करेंसी

बंद करके ओल्ड करेंसी
कितनों की बजा दी बन्शी
कितनों की बजा दी बन्शी रे, बुरे हाल कर दिए ।
अरे म्हारे pm मिस्टर मोदी ने, कमाल कर दिए ।।


08 नवम्बर 08:00 बजे कितनों के बज गए 12
कुछ लोगों को मोदी लगते गदर फ़िल्म के तारा-2
तुगलक से मेल मिलाते, सब मिलके शौर मचाते
ये छुप छुप आशुं बहाते, रे कंगाल कर दिए ।।
अरे म्हारे PM मिस्टर…

काले धन पे कसा शिकंजा संसद् में हंगामा
बबुआ,बुआ,दीदी,रोये, रोए पप्पू मामा-2
कुछ समझ ना इनके आये, करते बस हाय हाय
जो साठ साल ते पल रे थे, निढाल कर दिए ।।
अरे म्हारे PM मिस्टर मोदी...

घोटालेबाजों को कर दिया, एक रात में नंगा
काले धन का एक ठिकाना, बची पवित्र गंगा-2
दिन धोले दिखे तारे, फिरते इब मारे मारे
जो बने चौधरी बैठे थे, फटे-हाल कर दिए ।।
अरे म्हारे PM मिस्टर मोदी...

अफसर जी के तोते उड़ गए, घूँस छिपाये कैसे
गिरवी रख ईमान को उसने, जोड़े थे ये पैसे-2
मोदी ने कर दिये चाले, खुलगे जंग लागे ताले
इस धोली दाढ़ी वाले ने, सब लाल कर दिए ।।
अरे म्हारे PM मिस्टर मोदी....

फेक करेंसी रद्दी हो गई, टूटी कमर भरम की
बेईमानों की हालत पतली, तीरगी नाव धर्म की-2
इब सिसकी देदे रोवें, बचणे का रस्ता टोहवें
सब जनधन खाते वाले, माला माल कर दिए ।।
अरे म्हारे PM मिस्टर मोदी...

बड़े बड़ों का मोदी जी ने, बजा दिया है बाजा
गंगू सुख की नींद है सोता, गोली ले के राजा-2
शौचालय खूब बाणाये,फेर बढ़िया दस्त लगाए
झटके ते बाहर आये, जो पाताल धर दिए ।।
अरे म्हारे PM मिस्टर...

डाट्या करते बात बात पे, मीठे स बतलावें
सुथरी ढाला जानू सूं इब लाला जी के चाहवें-2
हुई जमा हेकड़ी ढीली, और धोती होरी गीली
जो जी ते प्यारे लागे थे, जंजाल कर दिए ।।
अरे म्हारे PM….

कदर बुजर्गों की बढ़गी बहु बेटे हंस बतलाते ।
बात करण की फुरसत ना थी इब ये पैर दबाते ।
इब हलवा बना खवावैं, खाते में धन डलवावैं
जो सख्त खड़े थे सावन, वो सब ढाल कर दिए ।।

सावन चौहान कारौली-एक नादान कलमकार
अ0 भा0 सा0 परिषद भिवाड़ी
भिवाड़ी साहित्य परिषद भिवाड़ी
अलवर राजस्थान
मो.9636931534

https://www.writersindia.in/2019/07/blog-post_2.html?m=1

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...