Wednesday, June 12, 2019

PULWAMA ATACK & HOLI


पुलवामा आतंकी हमला



शहीदों की चिताओं की आग अभी बुझी नही
कैसे यारों अबीरो गुलाल मे नहाऊँ मैं

और आशुँ अभी सूखे नही पथराई आँखों वाले
कैसे यारों फाग वाले गीत अब के गाऊँ मैं

नन्हे नन्हे माशूमों के पापा पापा वाले बोल
दिल को पाषाण कर भी सुन नही पाऊँ में

रोती हुई बहनों की भीगी भीगी आँखें अभी
कैसे फिर होली का त्यौहार ये मनाऊँ मैं

बुढ़े माँ- बाप की गई लाठी टूट अभी
कैसे उन बेचारों की धीर अब बंधाऊँ मैं

मांग का सिंदूर गया आखियों का नूर गया
कैसे घायल शेरनी के दिल को दुखाऊँ मैं...

सावन चौहान कारोली
१९-०३-२०१९

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...