Monday, June 24, 2019

गुब्बारा

"गुब्बारा"



'गुब्बारा' बच्चों को बहुत """प्रिय"'"'होता है । रंग बिरंगे लाल हरे काले,पीले,नारंगी बैंगनी,फिरोजी~~ जाने कैसे कैसे रंग के, जैसे किसी उपवन में मनभावन पुष्प सहसा ही सब का ध्यान आकृषित कर लेते है । वैसे ही गुब्बारे
भी सब का ध्यान आकृषित करने में
सक्षम होते है । किसी भी शुभ
अवसर पर फूलों की भाँति
इन्हें भी सजाया
जाता## है
और ये उस
महफ़िल की भव्यता
को और बढ़ा चढ़ा देते है
सकारात्मकता के प्रतीक और
@@खुशहाली और शुभ अवसर
को दर्शाते रोमांचित कर देने वाले
ये गुब्बारें । कक्ष को वटिका की तरह
सुशोभित कर देते है । हर मन को भाने
वाले बच्चों को लुभाने वाले प्यारे प्यारे गुब्बारे
कोई छोटा गुब्बारा कोई बड़ा गुब्बारा कोई ककड़ी का आकार लिए कोई दिल का
आकार लिए, कोई 'फूल' तो कोई
सितारा कोई मछली की आकृति का
कोई गुड्डे जैसा कोई गुड़िया जैसा रोते हुए
बच्चों की मुष्कान लौटा देने वाले ये गुब्बारे लेकिन ये जब तक इनमे "हवा" न भर दी
जाए ये “फूलते” नहीं है या ये कहे
गुब्बा नहीं होते, जैसे ही इनमे
'हवा' भर दी जाती है फिर ये जमीन
पर कम और “ऊपर” ही ऊपर ज्यादा उड़ते है
और जमीन पर अगर रह भी जाए तो इनके
पैर नहीं होते तो ये इधर उधर लुढ़कते
डोलते है और जैसे ही सच्चाई की कठोर
घास के तुनके से स्पर्श होते ही
इनकी हवा निकल जाती है
यूहीं गुब्बारे की तरह
ही कुछ व्यक्ति होते
है  अगर उनमे
कोई थोड़ी
'हवा'
भर दे
तो 'वो' वो
भी इन गुब्बारों
की भाँति ही फूल
कर गुब्बा’रा’  कुप्पा हो
जाते है लेकिन ऐसे
लोगों का भी कोई स्टैंड
या यूँ कहे पैर नहीं ~होते
और लगभग इनका भी वैसा
ही ~“अंजाम”~ होता है
इस लिए गुब्बारे देखने
भर तक तो ठीक है
लेकिन #गुब्बारा
हो जाना
ठीक
नहीं
“”””’’’’’’’’’”’’’’’“सावन चौहान कारोली””””’’’’’’’’’’’””’’

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...