Saturday, June 15, 2019

उठ चलो पथ कह रहा है


बढ़ चलो



उठ चलो पथ कह रहा है
बढ़ चलो पथ कह रहा है ।

रुक गया तो है अँधेरा,
है निरन्तरता सवेरा,
निर्मल तब तक नीर नदी का,
जब तलक वो बह रहा है ।

उठ चलो पथ... ,
बढ़ चलो पथ ... ।

मंजिल जो उस पार मिलेगी,
ठहर गये तो हार मिलेगी ।
पहुँच के ही आराम तू करना,
स्वप्न अधूरा कह रहा है ।

उठ चलो पथ... ,
आगे बढ़ो पथ ... ।

बहुत से गतिरोध भी, आएंगे तेरी राह में ,
मोहने कुछ दृश्य भी ,खीचेंगे अपनी बाँहों में ।
लक्ष्य पे रख ले निगाहें, लक्ष्य भी आ कह रहा है ।

उठ चलो... ,
बढ़ चलो... ।

बढ़ता चल तू शीलता से,
डर ना तूफानी हवा से ।
दुर्गम राह देख ना डरना,
जो ना डटा, जय रहा है ।

उठ चलो... ,
बढ़ चलो... ।

माना गहरी रात है काली,
सुबहा भी होगी निराली ।
सावन चिंतन करले थोडा,
भाव में क्यों बह रहा है ।

उठ चलो पथ कह रहा है ,
बढ़ चलो पथ कह रहा है ।

"सावन चौहान कारौली" एक नादान पथिक ।

No comments:

मेरे हुजरे में कभी आओ अदब का चाँद रखता हूँ होशलों की दीवारें और छान रखता हूँ सेज मखमल की मुनासिब न हो शायद टूटी खटिया है मगर सम्मान ...